scriptसिपरी की रिपोर्ट : परमाणु हथियारों की दौड़ में भारत ने पाकिस्तान को पीछे छोड़ा, चीन ने भी बढ़ाया जखीरा | SIPRI report: India left Pakistan behind in the nuclear arms race, China also increased its stockpile | Patrika News
समाचार

सिपरी की रिपोर्ट : परमाणु हथियारों की दौड़ में भारत ने पाकिस्तान को पीछे छोड़ा, चीन ने भी बढ़ाया जखीरा

स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (सिपरी) की रिपोर्ट के मुताबिक इस वक्त दुनिया में नौ देशों के पास 12,121 परमाणु बम हैं।

जयपुरJun 18, 2024 / 12:29 am

pushpesh

स्टॉकहोम. शीतयुद्ध के दौर के हथियारों को धीरे-धीरे खत्म करने से दुनिया में कुल परमाणु हथियारों की संख्या भले ही कम हुई है, लेकिन ऑपरेशनल परमाणु हथियारों की संख्या हर वर्ष बढ़ती जा रही है। सोमवार को जारी स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (सिपरी) की रिपोर्ट के मुताबिक इस वक्त दुनिया में नौ देशों के पास 12,121 परमाणु बम हैं। इनमें 9585 सैन्य जखीरे में रखे गए हैं, जो ऑपरेशनल हैं। रिपोर्ट के मुताबिक पहली बार भारत परमाणु हथियारों के मामले में पड़ोसी पाकिस्तान से आगे निकल गया। अब भारत के पास 172, जबकि पाकिस्तान के पास 170 परमाणु बम हैं। भारत ने पिछले एक वर्ष में आठ नए परमाणु बनाए हैं, जबकि पाकिस्तान ने कोई बम नहीं बनाया। उधर, चीन लगातार अपनी परमाणु ताकत बढ़ा रहा है। एक वर्ष में ड्रेगन ने 90 परमाणु बम बना लिए। पिछले वर्ष उसके पास 410 परमाणु हथियार थे, जो अब 500 हो गए हैं। ये संख्या पेंटागन की ओर से अमरीकी कांग्रेस में दी गई रिपोर्ट से मेल खाती है। इसमें बताया गया था कि चीन के पास 500 से अधिक ऑपरेशनल परमाणु हथियार हैं, जो एक दशक में एक हजार से ऊपर हो सकती है। कभी लगभग 200 वॉरहेड रखने वाले चीन के पास 2027 तक 700 से अधिक वॉरहेड हो सकते हैं।
चीन ने पहली बार मिसाइलों में फिट किए परमाणु बम
अमरीका और रूस ने सबसे ज्यादा परमाणु बमों को हाई अलर्ट पर रखा है, लेकिन चीन ने पहली बार 24 परमाणु बमों को हाई ऑपरेशनल अलर्ट पर रखा है। चीन ने यह कदम ऐसे समय पर उठाया है जब ताइवान को लेकर अमरीका के साथ उसका तनाव चरम पर पहुंचता दिख रहा है। भारत से सीमा पर चीन का तनाव अक्सर रहता ही है। सिपरी का अनुमान है कि 2030 तक चीन की ऑपरेशनल अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों की संख्या अमरीका और रूस के बराबर होगी।
रूस और अमरीका के पास 90 फीसदी हथियार
रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है कि परमाणु हथियारों से लैस 9 देशों ने अपने परमाणु आयुध शस्त्रागार को आधुनिक बनाए रखने का सिलसिला जारी रखा और 2023 में कई नई परमाणु हथियार प्रणालियों को तैनात भी किया। दुनिया के कुल कुल परमाणु हथियारों का 90 फीसदी रूस और अमरीका के पास है। अनुमान है कि रूस ने जनवरी 2023 की तुलना में इस साल करीब 36 और ऑपरेशनल वारहेड्स और तैनात किए हैं।
3904 मिसाइल और लड़ाकू विमानों तैनात
रिपोर्ट में बताया गया है कि निर्माणाधीन परमाणु हथियारों की संख्या भी बढ़ रही है। जनवरी में दुनियाभर में लगभग 12,121 परमाणु हथियारों में से लगभग 9,585 संभावित उपयोग के लिए सैन्य भंडार का हिस्सा थे। इनमें से लगभग 3,904 परमाणु हथियार मिसाइलों और लड़ाकू विमानों पर लगाए गए थे, जो पिछले साल से 60 फीसदी ज्यादा हैं।
चिंता : एक मिसाइल पर कई परमाणु बम
सिपरी का कहना है कि मौजूदा ट्रेंड चिंताजनक है। भारत, पाकिस्तान और उत्तर कोरिया एक ही मिसाइल पर कई परमाणु बम तैनात करने की तकनीक पर काम कर रहे हैं। यह ठीक वैसे ही है जैसा अमरीका, रूस, ब्रिटेन और चीन ने किया। ये देश अब और ज्यादा लक्ष्यों को तबाह करने की धमकी देने की दिशा में बढ़ सकते हैं।

किसके पास कितने परमाणु बम
देश 2024 2023
रूस 5580 5889
अमरीका 5044 5244
चीन 500 410
फ्रांस 290 290
ब्रिटेन 225 225
भारत 172 164
पाकिस्तान 170 170
इजरायल 90 90
उत्तर कोरिया 50 30

Hindi News/ News Bulletin / सिपरी की रिपोर्ट : परमाणु हथियारों की दौड़ में भारत ने पाकिस्तान को पीछे छोड़ा, चीन ने भी बढ़ाया जखीरा

ट्रेंडिंग वीडियो