scriptBakrid: ईद में क्यों दी जाती है बकरे की कुर्बानी, हलाल करने से पहले क्यों गिने जाते हैं दांत, दिलचस्प है कहानी | Bakrid Why goat is sacrificed on Eid why its teeth are counted before slaughtering it know interesting story | Patrika News
राष्ट्रीय

Bakrid: ईद में क्यों दी जाती है बकरे की कुर्बानी, हलाल करने से पहले क्यों गिने जाते हैं दांत, दिलचस्प है कहानी

Eid-UL-Adha 2024 Bakrid : क्या आप जानते हैं कि बकरीद पर बकरे की कुर्बानी क्यों दी जाती है, और उसे हलाल करने से पहले उसके दांत क्यों गिने जाते हैं।

नई दिल्लीJun 17, 2024 / 01:06 pm

Anish Shekhar

Eid-UL-Adha 2024 Bakrid : देशभर में ईद-उल-अज़हा का पर्व मनाया जा रहा है। जिसे आमतौर पर बकरीद के नाम से जाना जाता है। यह पर्व ना केवल धार्मिक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण है, बल्कि यह बलिदान, समर्पण और भाईचारे के मूल्यों को भी दर्शाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि बकरीद पर बकरे की कुर्बानी क्यों दी जाती है, और उसे हलाल करने से पहले उसके दांत क्यों गिने जाते हैं।

ईद पर क्यों दी जाती है कुर्बानी

ईद-उल-अज़हा, जिसे “बलिदान की ईद” के रूप में भी जाना जाता है, इस्लामिक कैलेंडर के सबसे पवित्र महीनों में से एक, धू अल-हिज्जा के दौरान मनाया जाता है। यह त्योहार पैगंबर इब्राहीम के अल्लाह के प्रति अटूट विश्वास और समर्पण को याद करता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, इब्राहीम ने अल्लाह के आदेश पर अपने बेटे इस्माइल की बलि देने की तैयारी की थी, इस अद्वितीय भक्ति और समर्पण की परीक्षा के बाद, अल्लाह ने इस्माइल को बचा लिया और उनके स्थान पर एक मेमने की बलि देने का आदेश दिया। इस महान बलिदान की याद में, आज पूरे विश्व के मुसलमान जानवरों की कुर्बानी देते हैं और इसे अल्लाह के प्रति अपनी आस्था और समर्पण के प्रतीक के रूप में देखते हैं।

तीन हिस्सों में बांटा जाता है मांस

बकरीद के दिन, मुसलमान सबसे पहले मस्जिद में जाकर विशेष नमाज अदा करते हैं। नमाज के बाद, वे घर लौटते हैं और जानवरों की कुर्बानी करते हैं। कुर्बानी का मांस तीन हिस्सों में बांटा जाता है – एक हिस्सा खुद के लिए, एक रिश्तेदारों और दोस्तों के लिए, और एक हिस्सा जरूरतमंदों और गरीबों के लिए। यह प्रथा हमें सिखाती है कि हमें अपने संसाधनों और खुशियों को दूसरों के साथ साझा करना चाहिए, जिससे समाज में एकता और भाईचारे का संदेश फैलता है।

क्यों गिने जाते हैं बकरे के दांत

बकरे के दांत गिनकर ये पता लगाया जाता है कि वो बकरा एक साल का है या नहीं. यदि बकरे के चार या छह दांत होते हैं तो वो बकरा एक साल का होता है। दरअसल बकरीद पर न ही नवजात और न ही बुजुर्ग बकरे की कुरबानी दी जाती है।

12 लाख में बिका “सुल्तान”

हर साल बकरीद पर खास तरह की बकरियों की चर्चा होती है। इस साल, मुंबई के बाज़ार में “सुल्तान” नाम की एक बकरी ने सबका ध्यान आकर्षित किया। सुल्तान की कीमत चौंका देने वाली थी-12 लाख रुपये! इस बकरी को विशेष रूप से बड़े और सुंदर सींगों के लिए जाना जाता है और इसे एक राजसी बकरी के रूप में प्रस्तुत किया गया था। इसके मालिक ने इसे उच्च गुणवत्ता के खाने और विशेष देखभाल से पाला था, जिसके कारण यह इतनी महंगी बिकी।
बकरीद के पहले, बाजारों में खास रौनक देखने को मिलती है। लोग विभिन्न प्रकार की बकरियाँ खरीदने के लिए उमड़ते हैं। इन बकरियों को विभिन्न प्रकार के आभूषणों और सजावट से सजाया जाता है। कई लोग बकरियों की खरीद के लिए महीनों पहले से तैयारी शुरू कर देते हैं और उन्हें अच्छे से पालन-पोषण करते हैं।
इस ईद-उल-अधा के अवसर पर, आइए हम सभी इन मूल्यों को अपने जीवन में उतारें और अपने समाज में शांति, प्रेम और एकता की भावना को प्रबल करें।

Hindi News/ National News / Bakrid: ईद में क्यों दी जाती है बकरे की कुर्बानी, हलाल करने से पहले क्यों गिने जाते हैं दांत, दिलचस्प है कहानी

ट्रेंडिंग वीडियो